आठ हजार में बिका महिला पशु चिकित्साधिकारी का ईमान, रिश्वत लेते गिरफ्तार

उत्तरकाशी के नौगांव में तैनात महिला पशु चिकित्साधिकारी डॉ. मोनिका गोयल को विजिलेंस टीम ने 8000 रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है।

519
आठ हजार में बिका महिला पशु चिकित्साधिकारी का ईमान, रिश्र्वत लेते गिरफ्तार

सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज तो अपने पढ़ा ही होगा कि आत्मा तब मर जाती है जब सरकारी तनख्वाह देने वाला अधिकारी प्रतिदिन कमाने वाले मजदूर से रिश्वत लेता है। ऐसा ही कुछ हो रहा था उत्तरकाशी जिले के नौगांव क्षेत्र में जहां महिला पशु चिकित्साधिकारी एक पशुपालक से आठ हजार रुपए की मांग कर रही थी। जिसकी शिकायत एक व्यक्ति ने विजिलेंस कार्यालय में की, जिसके बाद विजलेंस टीम ने महिला पशु चिकित्साधिकारी को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया। ऐसी खबरें यह सोचने पर मजबूर कर देती है कि करता कभी हमारा सिस्टम घूसखोरी, भ्रष्टाचार से मुक्त हो पाएगा?? आगे पढ़िए…

यह भी पढ़ें- उत्तरकाशी: पैर फिसलने से भागीरथी नदी में बही महिला, देखें वीडियो

जानकारी के अनुसार पुलिस अधीक्षक, सतर्कता अधिष्ठान, देहरादून कार्यालय में 13 जनवरी को एक पत्र मिला, जिसमें नौगांव में तैनात पशु चिकित्साधिकारी डॉ. मोनिका गोयल पर अनुसूचित जाति, जनजाति की महिलाओं (बीपीएल श्रेणी) के लिए बकरा पालन योजना के तहत मिलने वाली सरकारी अनुदान की अंशदान राशि का चेक देने के बदले 8000 रुपए रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था। डॉ. मोनिका गोयल ने लाभार्थी से बुधवार को पैसे लेकर कार्यालय आने को कहा था।

पुलिस अधीक्षक, सतर्कता अधिष्ठान रेनू लोहानी द्वारा इस पत्र का संज्ञान लिया गया। विजिलेंस टीम ने महिला चिकित्साधिकारी को रंगे हाथों पकड़ने के लिए जाल बिछाया। बुधवार को शिकायतकर्ता ने जैसे ही मोनिका गोयल के कार्यालय में पहुंचकर रिश्वत के पैसे दिए, वैसे ही विजिलेंस टीम ने महिला चिकित्साधिकारी को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 2108 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। बता दें कि डा मोनिका गोयल साल 2011 से वर्तमान तक पशु चिकित्साधिकारी पद पर जनपद उत्तरकाशी में नियुक्त है।