उत्तरकाशी: झाड़ियों में मिला पाकिस्तान का झंडा और बैनर, उर्दू और अंग्रेजी में लिखा था..

उत्तरकाशी जनपद के ग्राम तुल्याड़ा में पाकिस्तान का झंडा और बैनर मिला जिसमें उर्दू और अंग्रेजी में लाहौर बार एसोसिएशन लिखा था।

846
उत्तरकाशी: झाड़ियों में मिला पाकिस्तान का झंडा और बैनर, उर्दू और अंग्रेजी में लिखा था..

उत्तराखंड के सीमांत जनपद उत्तरकाशी के साथ पहाड़ियों में एक वारदात ने खुफिया एजेंसियों से लेकर इंटेलिजेंस की टीम की नींद उड़ा दी है। उत्तरकाशी जनपद के तुलियाडा गांव में पाकिस्तान का झंडा और बैनर मिला जिसमें उर्दू और अंग्रेजी में लाहौर बार एसोसिएशन लिखा हुआ था। इसके अलावा रस्सियों से बंधे 100 से अधिक गैस के गुब्बारे मिले। जिनमें से कुछ गुब्बारों की हवा निकल चुकी थी स्थानीय लोगों ने पुलिस को मामले की सूचना दी। जिसके बाद स्थानीय खुफिया विभाग और केंद्रीय एजेंसी हरकत में आई।

यह भी पढ़ें- उत्तरकाशी: सड़कों पर उतरेंगी अस्सी गंगा घाटी‌ क्षेत्र की जनता, पढ़ें पूरी खबर 

जानकारी के अनुसार उत्तरकाशी जिला मुख्यालय से करीब 35 किलोमीटर दूर चिन्यालीसौड़ के तुल्याड़ा गांव में बीते गुरुवार की शाम को ग्रामीणों ने गांव के निकट सफेद और हरे रंगों के गुब्बारों को देखा। सभी पहुंचे ग्रामीणों ने देखा कि उसमें पाकिस्तान का झंडा और एक बैनर था जिसमें उर्दू और अंग्रेजी में लाहौर बार एसोसिएशन लिखा था। बता दें कि तुल्याड़ा गांव से महज तीन किमी दूर पर चिन्यालीसौड़ के हवाई पट्टी स्थित है, जहां भारतीय सेना कई बार अभ्यास कर चुकी है और सीमांत क्षेत्र होने की वजह से उत्तरकाशी सामरिक दृष्टि से संवेदनशील जनपद में है। स्थानीय ग्रामीणों ने देखा कि करीब 100 से अधिक गुब्बारे एक मोटी रस्सी से बने हुए और इनमें से कुछ गुब्बारों की हवा निकल चुकी थी। ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस प्रशासन को दी जिसके पास स्थानीय खुफिया विभाग और केंद्र एजेंसी हरकत में आए।

केंद्रीय और प्रदेश की सभी खुफिया एजेंसी इस खोज में जुट गई है कि आखिर उर्दू और अंग्रेजी भाषा में लिखा पाकिस्तानी झंडा गैस के गुब्बारे के सहारे यहां इतनी दूर पहाड़ों में कैसे पहुंचा, या कहीं ऐसा तो नहीं कि पहाड़ से ही यह सब छोड़ा हो और पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई ने यहां भी घुसपैठ कर ली। DIG गढ़वाल करण सिंह के मुताबिक मामले में जिले से टीम को उसी स्थान पर भेजकर विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है। वही उत्तरकाशी के पुलिस अधीक्षक अर्पण यदुवंशी ने कहा कि गुब्बारे झंडे व बैनर गांव में कैसे पहुंचे इसकी पड़ताल की जा रही है। उच्च अधिकारियों तथा संबंधित एजेंसियों को भी अवगत करा दिया गया है, जांच के बाद ही कोई कार्रवाई की जाएगी।