पूर्णागिरि धाम के लापता पुजारी का शव बरामद, हत्या की आंशका

29 दिसंबर से लापता पूर्णागिरि धाम के लापता पुजारी जयदेव तिवारी का शव बीते मंगलवार को टनकपुर बैराज के गेट संख्या छह से बरामद हुआ।

294
पूर्णागिरि धाम के लापता पुजारी का शव बरामद

उत्तराखंड के चंपावत जिले में पूर्णागिरि धाम के लापता पुजारी का शव बरामद होने से सनसनी फ़ैल गई। पुजारी का शव निर्वस्त्र हाल में बरामत किया गया। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों के सुपुर्द कर दिया। चंपावत के डिक्टेश्वर घाट पर बुधवार को पुजारी का अंतिम संस्कार कर दिया। इस दुखद खबर से जहां मृतक के परिवार में कोहराम मचा हुआ है। परिजनों ने हत्या की आंशका जताते हुए पुलिस से जांच की गुहार लगाई है। जिसके बाद पुलिस लगातार खोजबीन में जुटी थी।

यह भी पढ़ें- गढ़वाल व कुमाऊं को जोड़ने वाली बस पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक 

प्राप्त जानकारी के अनुसार सेलागाड़ गांव निवासी 40 वर्षीय जय देव तिवारी 29 दिसंबर को अचानक लापता हो गए। वह मां पूर्णागिरि धाम के पुजारी थे। काफी खोजबीन के बाद कोई सुराग नहीं लगने पर उनके भाई रमेश चंद्र तिवारी की ओर से पुलिस में गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी। जिसके बाद पुलिस और परिजन लगातार खोजबीन में जुटे थे।

बीते मंगलवार पुलिस को सूचना मिली कि टनकपुर बैराज के गेट संख्या छह में एक व्यक्ति का निर्वस्त्र शव पड़ा है। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में कर मोर्चरी पहुंचाया। मृतक की शिनाख्त पूर्णागिरि धाम के लापता पुजारी जयदेव के रुप में हुई। पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों के सुपुर्द किया गया। फिलहाल मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। परिजनों ने हत्या की आंशका जताते हुए पुलिस से जांच की गुहार लगाई है। हांलांकि इस मामले में तहरीर नहीं सौंपी है।