हल्द्वानी अतिक्रमण: बनभूलपुरा क्षेत्र में विधायक सुमित हृदयेश के साथ सड़कों पर उतरे लोग

उत्तराखंड के नैनीताल जनपद के हल्द्वानी के बनभूलपुरा क्षेत्र में रेलवे की भूमि पर अतिक्रमण हटाने को लेकर रेलवे ने तैयारियां शुरू कर दी है। इसके बाद इलाके के लोगों ने अपने घरों को बचाने के लिए शांतिपूर्ण तरीके से भारी संख्या में सड़कों पर उतरकर मोर्चा संभाल लिया

340
हल्द्वानी अतिक्रमण: बनभूलपुरा क्षेत्र में विधायक सुमित हृदयेश के साथ सड़कों पर उतरे लोग

उत्तराखंड के नैनीताल जनपद के हल्द्वानी के बनभूलपुरा क्षेत्र में रेलवे की भूमि पर अतिक्रमण हटाने को लेकर रेलवे ने तैयारियां शुरू कर दी है। इसके बाद इलाके के लोगों ने अतिक्रमण पर कार्रवाई के खिलाफ भारी संख्या में सड़कों पर उतरकर मोर्चा संभाल लिया। इस दौरान हल्द्वानी विधायक सुमित हृदयेश, सपा प्रभारी अब्दुल मतीन सिद्दीकी, सपा महासचिव शोएब अहमद व अन्य नेता शामिल रहे।

हाईकोर्ट से नहीं मिली राहत

बता दें कि 20 दिसंबर को हाईकोर्ट ने रेलवे अतिक्रमण को लेकर बनभूलपुरा रेलवे प्रभावित लोगों को कोई राहत ना देते हुए अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए थे। ‌ प्रशासन की तैयारियों के बीच आज 28 दिसंबर को रेलवे अपनी जगह का सीमांकन करने वाला है। इसके अलावा प्रशासन ने बनभूलपुरा थाना क्षेत्र में निवास कर रहे सभी असलहाधारियों को अपने असलहे थाने में जमा कराने के आदेश दे दिए और ऐसा नहीं करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- हल्द्वानी: रेलवे की भूमि पर अतिक्रमण को लेकर हाईकोर्ट सख्त, ध्वस्त करने के दिए आदेश

आज सुबह 10:00 से रेलवे की टीम सीमांकन का कार्य शुरू करेगी। वह अपने नक्शे के साथ अपनी जमीन का सीमांकन करेंगे, साथ ही पुराने लगाए गए पिलरों को भी देखा जाएगा। इस दौरान यदि कोई पिलर काटे या उखाड़े गए होंगे तो वहां लाल पेंट से निशान लगाया जाएगा। रेलवे के हिसाब से उनकी करीब 29 एकड़ जमीन पर अतिक्रमण है। हालातों के मद्देनजर सुरक्षा की दृष्टि से भारी फोर्स तैनात है।

सड़कों पर उतरे लोग

हल्द्वानी शहर के बनभूलपुरा इलाके में लोग अपने हाथों में तख्तियां लेकर सड़कों पर बैठ गई है। बनभूलपुरा के इंदिरा नगर से चोरगलिया रोड स्थित थाने तक हज़ारों की संख्या में लोग जमा हैं। इनमे महिलाओं और बच्चों की खासी तादात है। उप जिलाधिकारी मनीष कुमार ने मौके पर पहुंचकर लोगों को समझाने का प्रयास किया लेकिन जनता बात मानने को राजी नहीं है लोगों का कहना है कि हम शांतिपूर्ण तरीके से अपने विरोध दर्ज कराएंगे।